Class 12th, hindi पाठ- 8 सिपाही की माँ SUBJECTIVE- प्रश्न उत्तर, inter hindi subjective- question answer

Class 12th, hindi पाठ- 8 सिपाही की माँ SUBJECTIVE- प्रश्न उत्तर, inter hindi subjective- question answer

हेलो दोस्तों नमस्कार आप सभी का स्वागत है इस नहीं पोस्ट में दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम लोग पढ़ेंगे कक्षा 12 हिंदी पाठ 8  सिपाही की मां का सभी महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव प्रश्न बता दे सारा से दिया गया है अलग से आपको कुछ भी पढ़ना नहीं है बस यह आर्टिकल पूरा पढ़ लीजिए आपका यह चैप्टर बिल्कुल तरह से तैयार हो जाएगा

 

Class 12th, hindi पाठ- 8 सिपाही की माँ SUBJECTIVE- प्रश्न उत्तर, inter hindi subjective- question answer

08. सिपाही की मां मोहन राकेश | एकांकी

पाठ के सारांश

सिपाही की मां शीर्षक एकांकी मोहन राकेश द्वारा लिखित अंडे के छिलके तथा अन्य एकांकी से ली गई है। चिट्ठी का इंतजार गांव का एक साधारण घर है जिसमें विशनी नाम की महिला अपनी चौदह वर्ष की लड़की मुन्नी के साथ रहती है उनके घर का इकलौता बेटा लड़ाई के लिए वर्मा गया हुआ है और वह दिन रात उसकी चिट्ठी का इंतजार करती रहती हैं गांव में डाक की गाड़ी आती है तो मुन्नी अपनी चिट्ठी लेने जाती हैं पर चिट्ठी नहीं आती हैं जिससे वह कुछ उदास हो जाती हैं उसकी मां भी चिट्ठी न आने से बहुत दुखी हैं लेकिन वह मां को बार-बार यही समझाती है कि जल्दी ही चिट्ठी आएगी फिर वह दोनों वर्मा की दूरी को लेकर बातचीत करती हैं। इसी बीच मुन्नी यह कह देती हैं कि कहीं चिट्टी लाने वाला जहाज डूब गया हो जिस कारण उसकी मां उसे डांटती है।

मुन्नी की शादी की चर्चा-तभी वहां पड़ोस में रहने वाली कुंती आ जाती है। पहले वह वर्मा की लड़ाई के विषय में बातचीत करती हैं और फिर मुन्नी की शादी के बारे में पूछती हैं साथ ही वह मुन्नी की शादी जल्द से जल्द करने को कहती हैं फिर वह कहती हैं कि तुम्हारा लड़का जो युद्ध में गया है वह पता नहीं कब तक आएगा क्योंकि लड़ाई का कोई पता नहीं है कि वह कब तक चलती रहे।

बर्मा से दो लड़कियों का आगमन – उसी समय वहां दीनू कुम्हार आता है और बताता है कि दो जवान लड़कियां अजीब से कपड़े पहने घर-घर जाकर आटा दाल मांग रही है। यह बताकर दीनू वहां से चला जाता है इतने में वह लड़कियां वहां आ जाती हैं और दाल चावल मांगती है जब विशनी और कुंती उनके बारे में पूछती है तो वह बताती है कि मैं वर्मा से आई हूं वहां भीषण लड़ाई चल रही है जिस कारण हमारा घर बार छिन गया है। मैं बड़ी मुश्किल से जंगल के रास्ते अपनी जान बचाकर आई हूं जब मुन्नी उनसे फौजियों के बारे में पूछती है तो वे बताती है कि जो फौज छोड़कर भागता है उसे गोली मार दी जाती है। फिर वह वर्मा की नाटकीय स्थिति का वर्णन करती है जिसे सुनकर बिशनी कांप उठती है उसे अपने बेटे की चिंता सताने लगती है तथा कुंती और मुन्नी उसे ढांढ़स बंधाती है। मुन्नी कहती है कि मेरा दिल कहता है कि भैया आप ही आएंगे जिसे सुनकर बिशनी कुछ हिम्मत जुटाकर बोलती हैं तेरा दिल ठीक कहता है बेटी ! चिट्ठी न आई तो वह आप ही आएगा।

मां बेटी की बातचीत- रात के समय मां बेटी आपस में बातचीत करती हैं मुन्नी अपनी मां से कहती हैं कि मेरी कुछ सहेलियों के कपड़े बहुत ही सुंदर हैं जिन्हें वह सारे गांव में दिखाती है। तब विशनी उसे प्यार भरे स्वर में कहती है कि तेरा भाई तेरे लिए उसे भी अच्छे कपड़े लाएगा।

स्वप्न की स्थिति इसके बाद दोनों सो जाती हैं स्वप्न में विशनी को मानक (उसका बेटा) दिखाई देता है। वह उससे •बातचीत करती है वह बुरी तरह घायल है और बताता है कि दुश्मन उसके पीछे लगा है विशनी उसे लेटने को कहती हैं पर वह पानी मांगता है तभी वहां एक सिपाही आता है और वह उसे मरा हुआ बताता है यह सुनकर बिशनी सहम जाती हैं लेकिन तभी मानक कहता है कि मैं मरा नहीं हूं व सिपाही मानक को मारने की बात कहता है लेकिन विशनी कहती हैं कि इसकी मां हूं और इसे मारने नहीं दूंगी सिपाही मानक को वेहोशी तथा खूनी बताता है। लेकिन विशनी उसकी बात को नकार देती है। वह कहती है कि यह बुरी तरह घायल है और इसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है इसलिए तू इसे मारने का विचार त्यादें। जवाब में सिपाही कहता है कि अगर मैं इसे नहीं मारूंगा तो यह मुझे मार देगा विशनी उसे विश्वास दिलाती हैं कि यह तुझे नहीं मारेगा तभी मानक उठ खड़ा होता है और सिपाही को मारने की बात कहता है विशनी उसे समझाती हैं लेकिन वह नहीं मानता है और उसकी बोटी-बोटी करने की बात कहता है।

स्वप्न भंग – यह सुनकर बिशनी चिल्लाकर उठ बैठती है वह जोर-जोर से मानक मानक कहती है उसकी आवाज सुनकर मुन्नी वहां आती है मां की स्थिति देखकर वह कहती हैं कि तुम रोज भैया के सपने देखती हो जब कि मैंने तुमसे कहा था कि भैया जल्दी आ जाएंगे। फिर वह अपनी मां के गले लग जाती हैं विशनी उसका माथा चूम कर उसे सोने को कहती हैं और मन-ही-मन कुछ गुनगुनाने लगती है।

 

सब्जेक्टिव-

1. विशनी और मुन्नी को किसकी प्रतीक्षा है वह डाकिए की राह क्यों देखती है?

उत्तर- बिशनी और मुन्नी को अपने घर के इकलौते बेटे मानक की प्रतीक्षा है वे उसकी चिट्ठी आने के इंतजार में डाकिए की राह देखती है।

2. बिशनी मानक को लड़ाई में क्यों भेजती है? उत्तर- बिशनी के घर की हालत बहुत खराब है उसे अपनी बेटी का ब्याह करना है इसलिए वह मानक को लड़ाई में भेजती है।

3. सप्रसंग व्याख्या करें

1. नहीं फौजी वहां लड़ने के लिए है वे नहीं भाग सकते जो फौज छोड़कर भागता है उसे गोली मार दी जाती है ?

उत्तर- प्रस्तुत पद्यांश हिंदी साहित्य के प्रमुख कथाकार एवं नाटककार मोहन राकेश द्वारा रचित उनके एकांकी सिपाही की मां से संकलित है यहां एक मां अपने बेटे को गलत कार्य करने से रोक रही है। जब मुन्नी बर्मा से आई लड़कियों से पूछती हैं कि फौजी युद्ध से भागकर नहीं आ सकते तब उनमें से एक लड़की कहती है कि फौजी वहां लड़ने के लिए गए। वे वहां से भाग नहीं सकते हैं। अगर कोई भागने की कोशिश भी करता है तो उसे गोली मार दी जाती है।

2. वह घर देखकर ही क्या करना है कुंती? मानक आए तो कुछ हो भी। तुझे पता ही है आजकल लोगों के हाथ कितने बढ़े हुए हैं।

उत्तर- बिशनी से मिलने उसकी पड़ोसन कुन्ती आती है और वह मुन्नी के लिए रिश्ता ढूंढने की बात करती है। तब बिशनी उसे अपनी मजबूरी बताती है। बिशनी कुंती से कहती है कि वर देखकर कोई लाभ नहीं है क्योंकि हमारे पास रुपए तो हैं नहीं जो विवाह किया जा सके। इसलिए जब मानक आएगा तभी कुछ हो सकता है वैसे भी आजकल शादी विवाह में बहुत अधिक खर्च होते हैं। अर्थात बिशनी स्पष्ट कहती है कि उसके पास रुपए पैसे बिल्कुल भी नहीं है इसलिए जब • उसका बेटा आएगा तभी शादी के बारे में कुछ सोचा जा सकता है।

4. एकांकी और नाटक में क्या अंतर है संक्षेप में बताएं?

उत्तर- एकांकी और नाटक में निम्नलिखित अंतर है?

1. एकांकी में एक ही अंक होते हैं और उस एक अंक में एक से अधिक दृश्य होते हैं जबकि नाटक में एक से अधिक अंक या एवट होते हैं और प्रत्येक अंक कई दृश्यों में विभाजित होकर प्रस्तुत होता है।

2. एकांकी नाटक में एकल कथा होती है अर्थात वहां केवल अधिकारिक कथा प्रासंगिक नहीं। साथ ही नाटक में अधिकारिक कथा आकार की दृष्टि से छोटी होती है तथा कोई एक लक्ष्य लेकर चलती हैं।

3. एकांकी और नाटक में क्रिया व्यापार की सत्ता प्रधान होती है इसे संघर्ष या द्वंद कहा जाता है यही कथा और पात्र को लक्ष्य तक पहुंचाता है एकांकी में यह क्रिया व्यापार सीधी रेखा में चलता

 

हैं लेकिन नाटक में प्रायः टेढ़ी सीधी रेखा चलती है नाटक में इत्तर प्रसंगों के लिए अवसर होता है लेकिन एकांकी में भटकने की गुंजाइश नहीं होती है।

4. एकांकी में यथासाध्य जरूरी स्थितियों को ही कहने की चेष्टा की जाती हैं जबकि नाटक में

देशकाल और वातावरण को थोड़े विस्तार से चित्रित करने का अवसर होता है।. भारतीय दृष्टि से नाटक में कथा को नियोजित संगठित करने के लिए अर्थ प्रकृति कार्यावस्था • और नाट्य संधि का विधान किया गया है लेकिन एकांकी में इनकी आवश्यकता नहीं पड़ती है।

 

5. दोनों लड़कियां कौन है ?

उत्तर- सिपाही की मां शीर्षक एकांकी में दो लड़कियों के नाम से दो पात्र हैं एक को पहली लड़की व दूसरी को दूसरी लड़की के रूप में संबोधित किया गया है दोनों लड़कियां बर्मा की रंगून नगर की है द्वितीय विश्व युद्ध के समय जब जापानी व हिंदुस्तानी सेना बर्मा में युद्ध कर रही थी तब वहां भयंकर रक्तपात हुआ था। लाखों वर्मा निवासी घर द्वार छोड़कर भारत की सीमा में घुस आए थे उन्हीं में से दो लड़कियों ने अपने परिवार की ग्यारह सदस्यों के साथ दुर्गम एवं बीहड़ जंगलों एवं दलदलों को पार करते हुए भारत में प्रवेश किया था उन्हीं दोनों लड़कियों की भेंट इस एकांकी की मुख्य पात्र बिशनी से हो जाती हैं एवं खाने के लिए अन्न की मांग करती है बिशनी इन्हें भर कटोरा चावल देती हैं।

6. कुंती का परिचय आप किस तरह देंगे ?

उत्तर- कुंती सिपाही की मां शीर्षक एकांकी में एक प्रमुख पात्र हैं यह एक अच्छी पड़ोसन के रूप में रंगमंच पर प्रस्तुत हुई है यद्यपि कुंती की भूमिका थोड़े समय के लिए है तब भी उसे थोड़े में •आंका नहीं जा सकता वह बिशनी की पुत्री मुन्नी के विवाह के लिए चिंतित है। वह स्वयं मुन्नी के लिए वर घर खोजने को भी तैयार है वह बिशनी को सांत्वना भी देती है। बिशनीके पुत्र मानक के वर्मा की सकुशल लौटने की बात भी हुआ करती है। बिशनी के प्रति उसकी सहानुभूति उसके शब्दों में स्पष्ट दिखाई पड़ती है वह कहती है तू इस तरह दिल क्यों हल्का कर रही है कुंती वर्मा के लड़कियों के प्रति थोड़ा कठोर दिखाई देती है उनके हाव-भाव एवं पहनावे तथा भिक्षाटन पर थोड़ा क्रुद्ध भी हो जाती है। उनका इस तरह से भिक्षा मांगना कतई अच्छा नहीं लगता है। यह कहती भी है- हाय रे राम! यह लड़कियां की……|

7.मानक और सिपाही एक दूसरे को क्यों मारना चाहते हैं?

उत्तर- मानक वर्मा की लड़ाई में भारत की ओर से अंग्रेजों के साथ लड़ने गया था। और दूसरी और के पक्ष जापानी थे। सेना एक दूसरे का दुश्मन है क्योंकि वह अपने अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हैं मानव और सिपाही अपने को एक दूसरे का दुश्मन समझते हैं इसलिए वे एक दूसरे को मारना चाहते हैं।

8. मानक स्वयं को वहशी और जानवर से भी बढ़कर क्यों कहता है ?

उत्तर- सिपाही की मां शीर्षक एकांकी में मानक एक फौजी है। वह वर्मा में हिंदुस्तानी फौजी की • ओर से जापानी सेना से युद्ध कर रहा है मानक और दुश्मन सिपाही एक दूसरे को घायल करते हैं मानक भागता हुआ अपनी मां के पास आता है दुश्मन सिपाही उसका पीछा करते हुए वहां पहुंच जाता है मानक की मां मानक को बचाना चाहती हैं इस पर दुश्मन सिपाही मानक को वहशी और जानवर कह कर पुकारते हैं। मानक का पौरूष जग उठता है तो घायल अवस्था में भी वह खड़ा होकर सिपाही को मारने का प्रयास करता है और क्रोध की स्थिति में वह स्वयं को वहशी और जानवर से भी बढ़कर कहता है मानक का ऐसा कहना अतिशयोक्ति नहीं है समय और परिस्थिति के अनुसार उसका कहना यथार्थ है दर्शकों की नजर में मानक की उक्ति प्रभावकारी एवं आकर्षक है।

> ऑब्जेक्टिव-

1. सिपाही की मां एकांकी के लेखक कौन है ? उत्तर- मोहन राकेश

2. बिशनी किस एकांकी का पात्रा है ?

उत्तर- सिपाही की मां

3. मानक की मां का नाम क्या है?

उत्तर- बिशनी

4. मानक किस युद्ध में सिपाही के रूप में लड़ने के लिए वर्मा गया था ? उत्तर- द्वितीय विश्वयुद्ध में

15. सिपाही की मां एकांकी मैं किसकी कथावस्तु प्रस्तुत की गई है?

उत्तर- मां बेटी 6. मोहन राकेश किस पत्रिका के संपादक रहे?

उत्तर- सारिका 7. मनी डाक गाड़ी के पीछे क्यों जाती हैं ?

उत्तर- चिट्ठी के लिए 8. डाक गाड़ी के पीछे चिट्ठी के लिए कौन जाती है।

उत्तर- मनी (12 वर्ष)

9. मानक बिशनी से दूध की जगह क्या मांगता हैं ? उत्तर- पानी

10. इसाई लड़कियां बिशनी के घर आकर क्या मांगती है?

उत्तर- चावल दाल

11. तेरह दिनों तक हमलोग भूखे प्यासे जंगली रास्ते में चलते रहे यह किसने कहा?

उत्तर- इसाई लड़कियां 12. मोहन राकेश की कृति हैं ?

उत्तर- इंसान के खंडहर, फौलाद का आकाश, आषाढ़ का एक दिन,

 

Class 12th, hindi पाठ- 7 ओ सदानीरा SUBJECTIVE- प्रश्न उत्तर, inter hindi subjective- question answer

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

क्या इंतज़ार कर रहे हो? अभी डेवलपर्स टीम से बात करके 40% तक का डिस्काउंट पाएं! आज ही संपर्क करें!